Follow on Bloglovin

Friday, July 31, 2009

शून्य की ओर

अंधेरे कमरे में मैं जल रही थी
अपने ही विचारो से मैं पिघल रही थी
कुछ देर जली फिर कुछ और जली

उजले दिन को राख़ बनने को जली
फिर काली रात की परछाइयां मिटाने को जली
मैं अपनी ही परछाइयों में पली
फिर अपनी ही परछाइयों से जली

कभी बेगानों की पीड़ा ने जलाया
कभी अपनों की लीला ने जलाया
इसी जलन ने कुछ अपनों को बेगाना बनाया
इसी तपन में कुछ बेगानों को मैंने अपना पाया

कभी हल्कि सी हँसी ने हिलाया
कभी किसी के आंसुओं ने बुझाया
पर जलना मेरी फितरत है
मैं फिर जली, कुछ देर जली फिर कुछ और जली

जलते जलते मैंने कभी दो दिलों को मिलाया
मैंने कभी किसी को शायर बनाया
मैं अपने ही आंसूओं से
फिर कुछ और गली

मेरा जीवन था अंधियारे को काटना
मेरा लक्ष्य था विचारों को छांटना
मैं एक रूप से फिर शून्य में ढली
बुझने से पहले मैं फिर कुछ देर और जली

मेरी इस बुझती लौ ने फिर कुछ को रुलाया
मेरे इस अंत में मुझे मेरे अपनों ने भुलाया
शून्य से होकर मैं कहीं और मिली
ख़ुद में ही मिलने को मैं फिर एक बार और जली ...


  1. interesting...very interesting.. :)

  2. you a good poet. may i know what factors contributed to you writing this? can you show us all your other scintillating works?

  3. u seem to be an Occultist

    this reminds me of Mahadevi Verma,
    some lines from her famous poem..

    मधुर मधुर मेरे दीपक जल!
    युग युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल;
    प्रियतम का पथ आलोकित कर!

    तम असीम तेरा प्रकाश चिर;
    खेलेंगे नव खेल निरन्तर;
    तम के अणु-अणु में विद्युत सा -
    अमिट चित्र अंकित करता चल!
    सरल-सरल मेरे दीपक जल!

    तू जल जल होता जितना क्षय;
    वह समीप आता छलनामय;
    मधुर मिलन में मिट जाना तू -
    उसकी उज्जवल स्मित में घुल-खिल!
    मदिर-मदिर मेरे दीपक जल!

  4. Can u please elaborate your reason for visualising me as an occultist?

    PS. I am able to find a yawning gap between the theme in Mahadevi verma's poem and mine.

  5. by occultism, i understand 'chhaya-vaad'.. (one of the stages indian hindi went thru) and mahadevi, bachchan, prasad, nirala are the main pillars there.
    i doubt u as an occultist by reading most of the topic in this blog not only because of this paricular poem.
    (me could be wrong and i can take my words back anytime) :-)

    ofcourse there is theme difference in ur poem and quoted one ...quoted here just to remember mahadevi and her great sense to decipher the occult !!

    but if u see by a moti budhdhee...something is burning at both places....;-)...take it lite.

  6. I take the compliment then. u are motivating me to write further and more.. Ofcourse these poets had massive contribution in hindi literature. Although my poem seems to have no occult, but its always pleasant to get such comments. Thankyou, hope i will be able to retain a new reader. :)

  7. u'r welcome.
    awaiting more n more writings of any cult :)

  8. its candle !!!!!

    ha ha ha ha ha ha ha...


  9. Very nice !! and very well expressed . often time lose of identity is the first causality of ones quest to bring joy to others life . I used to think that it was a good thing I am not sure any more . wrote something simmillar on my birthday couple of year back . .

    1. Thankyou Prashant. Yes I too feel its a good thing sometimes!


Thankyou for your feedback :)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...